Mutual Fund in hindi- म्यूचुअल फंड के फायदे नुकसान और उसकी विशेषताएँ

Mutual Fund in hindi

Mutual Fund in hindi मतलब रिस्की निवेश मान लिया गया है। लेकिन अगर यहां पर पूरी जानकारी के साथ निवेश किया जाए तो म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) में निवेश का पूरा फायदा उठाया जा सकता है। अगर आप निवेश करने की इच्छा रखते हैं और अच्छी खासी कमाई करना चाहते हैं तो म्यूचुअल फंड निवेश विकल्पों में सबसे शानदार इन्वेस्टमेंट ऑप्शन है सबसे पहले इस बात को समझने की जरूरत है कि म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) में निवेश शेयर बाजार की तरह रिस्‍की नहीं है। म्यूचुअल फंड में आप चाहें तो सालाना या हर महीने इनेवस्टमेंट कर के भी मुनाफा कमा सकते हैं. इसमें सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (Systematic Investment Plan) यानी कि SIP के जरिए निवेश करना ज्यादा बुद्धिमानी है

अगर आप अपना पूरा पैसा कि‍सी एक कंपनी में निवेश कर दें और कि‍सी वजह से वह डूब जाए तो आपका सारा पैसा भी डूब जाएगा। लेकिन अगर आपने म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) के माध्‍यम से पैसा लगाया है तो आपके साथ ऐसा नहीं होगा। म्‍युचुअल फंड (Mutual Fund) में आपके पैसे को अलग-अलग कंपनि‍यों में लगाया जाता है। इसका फायदा यह है कि‍ अगर कि‍सी एक कंपनी में लगा पैसा दिक्‍कत में भी आ जाए तो बाकी जगह पर लगा हुआ पैसा उसे कवर कर ले। इससे आपका नुकसान नहीं हो पाए।

म्यूच्यूअल फण्ड क्या होता है – What is Mutual Fund in Hindi

म्युचुअल फंड विभिन्न निवेशकों से पैसे एकत्र करके एक फंड में निवेश करने का एक तरीका होता है। इस फंड की तदारेख एक फंड मैनेजर के द्वारा की जाती है, जो की विभिन्न निवेशकों से इकट्ठा किए गए पैसे को बॉन्ड, शेयर मार्केट में निवेश करता है। आसान शब्दों में कहें तो Mutual Fund in hindi बहुत सारे लोगों के पैसे से बना हुआ फण्ड होता है. जिसमे लगाया गया पैसे अलग अलग जगहों पर निवेश करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है और कोशिश की जाती है की निवेशक को उसकी रकम से ज्यादा से ज्यादा मुनाफा दिया जाए। 

म्युचुअल फंड सही है या गलत?

म्युचुअल फंड सही या ग़लत सीधे तरीक़े से कह पाना आसान नहीं है। क्यूँकि सभी चीजों के दो पहलू होते हैं, लेकिन हाँ म्युचुअल फंड के पक्ष में ज़्यादा अच्छे मत है लोगों के। वहीं आपको जब भी म्युचुअल फंड में निवेश करने की बारी आएगी तब वहाँ पर आपको ये समझना होगा यहां पर आपको बहुत ही अच्छा डायवर्सिफिकेशन देखने को मिल जाता है। जितना अधिक डायवर्सिफिकेशन होगा उतनी रिस्क की मात्रा कम होती जाएगी। आप उतना ही पैसा निवेश करें जितनी आपकी क्षमता हो। साथ में हमेशा खुद की रीसर्च करें किसी भी म्यूचूअल फंड में निवेश करने से पहले। किसी के बहकावे में आकार निवेश न करें।

म्यूचुअल फंड एसआईपी में निवेश 

म्‍युचुअल फंड (Mutual Fund) में पैसा अलग-अलग शेयर और बांड में इन्‍वेस्‍ट कि‍या जाता है। अगर आप म्यूचुअल फंड में एकमुश्त निवेश नहीं कर सकते हैं तो इसमें आप प्रति महीने एक तय अमाउंट का निवेश एसआईपी में कर सकते हैं. बता दें कि मार्केट में कमजोरी आने के बावजूद भी एमएफ एसआईपी (Mutual Fund SIP) में निवेश करने पर investment पर कोई खास असर नहीं पड़ता है क्योंकि यह तेजी के साथ साथ बीयर मार्केट में भी काम करता है. आप चाहे तो कम से कम 500 रुपये से भी इसमें निवेश कर सकते हैं

म्यूच्यूअल फंड को कौन मैनेज करता है?

किसी म्यूच्यूअल फंड स्कीम को Fund managers द्वारा संचालित किया जाता है। म्यूचुअल फंड को एसेट मैनेजमेंट कंपनियों (AMC) द्वारा मैनेज किया जाता है। अलग-अलग म्यूच्यूअल फंड हाउस अपनी जरूरतों के हिसाब से फंड मैनेजर को हायर करते हैं।

म्यूचुअल फंड एक ऐसा बकेट है जिसमें निवेशकों का पैसा इक्कठा रहता है। इस बकेट में जो पैसा होता है वह फंड मैनेजर द्वारा अलग-अलग जगह निवेश किया जाता है जैसे की स्टॉक मार्केट, बॉन्ड्स, मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट आदि। 

Mutual Fund Investment करने के तरीके- Mutual Fund in hindi

Mutual fund investment हम दो प्रकार से कर सकते हैं।

1. SIP

2. Lumpsum

SIP Mutual Fund Investment करने का सबसे लोकप्रिय तरीका हैं।  SIP (Systematic investment plan) जिसमे आप एक निश्चित राशि एक निश्चित अंतराल में म्यूचुअल फंड स्कीम में लगाते हैं। यह समय अंतराल 15 दिन, एक महीना या तिमाही हो सकता है। SIP के माध्यम से आप अपने लॉन्ग टर्म गोल्स को एक सिस्टेमेटिक तरीके से प्राप्त कर सकते हो।

Lumpsum इसमें आपको SIP की तरह बार-बार पैसा नहीं डालना होता है। इसमें आपको एक बड़ा अमाउंट एक साथ निवेश करना होता हैं। Lumpsum को आप बैंक की Fixed deposit की भांति भी समझ सकते हो।

म्यूच्यूअल फण्ड में कितनी रिस्क होती हैं?

जैसा कि आपने ऊपर समझा कि Mutual Fund in hindi में आपका निवेश किसी एक स्टॉक में ना होकर अनेक स्टॉक्स, बॉन्ड्स और मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स में होता है।  जिससे आपकी रिस्क काफी कम हो जाती है। म्यूचुअल फंड को आपको लॉन्ग टर्म के हिसाब से ही खरीदना चाहिए जिसमें आपको कम से कम म्यूचुअल फंड में 5 से 10 वर्ष के लिए तो निवेश करना ही चाहिए। इसमें आपको काफी अच्छे रिटर्न देखने को मिल सकते हैं। यह बात सत्य है कि इक्विटी म्युचुअल फंड्स में छोटी अवधि में काफी अधिक रिस्क हो सकता है। परंतु अगर आप का टाइम 3 से 5 वर्ष है तो आप म्यूचुअल फंड में अच्छे रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।

शेयर मार्केट क्या है? कैसे करें शेयर मार्केट में invest?

म्यूच्यूअल फण्ड में कितना रिटर्न मिलता हैं?

Mutual Funds के रिटर्न सीधे स्टॉक मार्केट से जुड़े होते हैं। इसलिए यहां पर आपको कोई निश्चित रिटर्न प्राप्त नहीं होता है। म्‍यूचुअल फंड SIP की लंबी अवधि के रिटर्न पर नजर डालें, तो कई ऐसी स्‍कीम्‍स हैं, जिनमें निवेशकों को औसतन 10 से 15% के रिटर्न म्युचुअल फंड में प्राप्त कर सकते हैं।  इस तरह, अगर आप 5,000 रुपये की मंथली SIP करते हैं, और सालाना 15 फीसदी का रिटर्न मिलता है, तो करीब 22 साल में आपका  1.1 करोड़ रुपये हो जाएगा यानी आप 26 साल में करोड़पति बन सकते हैं

लेकिन यहां यह बात ध्यान देने योग्य है कि यह रिटर्न्स भी कोई गारंटीड रिटर्न्स नहीं है। यह रिटर्न्स कम या ज्यादा भी हो सकते हैं।

म्यूचुअल फंड में निवेश कैसे करे?

वैसे तो Market में आपको ऐसे कई सारे Android App मिल जायेंगे जिनका इस्तमाल कर आप आसानी से Mutual Fund में invest कर सकते हैं यदि आप Mutual Funds में अपने पैसे निवेश करना चाहते हैं Groww, MyCams, InvesTap, KTrack Mobile App, IPRUTouch App इत्यादि  इस्तमाल कर आप आसानी से Mutual Fund में invest कर सकते हैं

म्यूचुअल फंड के फायदे

वैसे तो Mutual Funds के कई फायेदे हैं लेकिन जो महत्वपूर्ण फायेदे हैं उसके बारे में में आज में आप लोगों को पूरी जानकारी देने ही कोशिस करूँगा.

  1. Tax Benefits: Mutual Funds में आपको टैक्स पर छूट मिलती है
  2. Professional Management: आपके द्वारा म्यूच्यूअल फंड्स में लगाया गया पैसा म्यूच्यूअल फंड्स विशेषज्ञों द्वारा manage किया जाता है
  3. Convenience: आप बड़ी ही आसानी से Mutual Fund in hindi में निवेश कर सकते है उतनी ही आसानी से आप फंड्स से पैसे निकाल भी सकते है
  4. Diversification: सुरक्षित निवेश का मूल मंत्र है की अपने पैसे को एक जगह न लगा कर बहुत सारी जगहों पर बाँट दो और कई सारी जगहों पर निवेश कर
  5. Affordable: बड़ी कंपनियों के शेयर की कीमत काफी ज्यादा होती है बहुत बार आप उन कंपनियों में पैसा लगाना चाहते है पर आपका बजट कम होने की वजह से आप ऐसा नहीं कर पाते जबकि Mutual Funds में बड़ी कंपनियों में निवेश किया जाता है

Types of Mutual Funds- म्यूचुअल फंड के प्रकार

Balanced Fund / Hybrid Scheme:

जैसा नाम से ही पता चल रहा है, ये फंड्स बैलेंस्ड होते हैं इन फंड्स में इक्विटी में निवेश किया जाता है ताकि निवेशकों की इनकम बढ़ने के साथ-साथ उन्हें नियमित आय भी मिलती रहे इस सेग्मेंट की बात करें तो पिछले 10 साल में औसत रिटर्न डबनल डिजिट में हो सकता है.

Solution Oriented Scheme:

इस स्कीम में आपको कम से कम पांच साल के लिए निवेश करना जरूरी होता है इनमें रिटायरमेंट स्कीम या बच्चे की शिक्षा जैसे लक्ष्य हो सकते हैं 

Growth/Equity Mutual Funds: 

लंबे समय के लिए निवेश करने के लिए ये अच्छा ऑप्शन है इन फंडों में 10 साल का औसत रिटर्न 12 से 15 फीसदी हो सकता है Equity Mutual Funds में रकम का ज्यादा हिस्सा इक्विटी में निवेश किया जाता है इसी वजह से इसमें रिस्क भी ज्यादा होता है इस स्कीम में निवेशकों को दो विकल्प दिए जाते हैं, या तो वो डिविडेंड स्कीम चुनें या कैपिटल ग्रोथ 

Debt/Income Scheme:

इसमें इक्विटी के मुकाबले आय कम होती है लेकिन रिस्क भी कम होता है. इन फंडों में 10 साल का औसत रिटर्न 8 से 10 फीसदी हो सकता है डेट फंड उनके लिए अच्छा विकल्प है जो ज्यादा रिस्क नहीं लेना चाहते हैं और एक नियमित आय चाहते हैं  इस स्कीम में ज्यादातर रकम बॉन्ड्स, कंपनियों के डिबेंचर और सरकारी सेक्युरिटी में निवेश किया जाता है Mutual Fund in hindi

FAQs- Mutual Fund in hindi

म्यूचुअल फंड के फायदे क्या है?

म्युच्युअल फंड फायदे में ये सबसे बढ़िया बेनिफिट माना जाता हैं। जैसे कि आप कार खरीदने के लिए, घर खरीदने के लिए लक्ष्य निर्धारित कर पोर्टफोलियो का निर्माण कर सकते हैं।

म्यूचुअल फंड कितने प्रकार के होते हैं?

Mutual Fund तीन प्रकार होते हैं- Equity Mutual Fund, Debt Mutual Fund, Hybrid Mutual Fund.

म्यूचुअल फंड में कितना ब्याज मिलता है?

लंबी अवधि में औसतन 12 फीसदी सालाना का रिटर्न कई म्‍यूचुअल फंड स्‍कीम्‍स में मिला है

म्यूचुअल फंड में कम से कम कितना निवेश कर सकते हैं?

SIP के जरिए आप हर महीने म्यूचुअल फंड में कम से कम 500 रुपये का निवेश कर सकते हैं

I am Saroj Thakur, the owner of Yozana Classes Hindi website. I am BA bachelor degree holder. By profession, I am a Web Designer, Graphic Designer, Google Webmaster and SEO Optimizer. I have deep knowledge of Google AdSense and I am interested in blogging.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here